भोपाल
जिला पंचायत चुनाव में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गढ़ सीहोर और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव रोचक हो सकता है। सीहोर में जहां भाजपा समर्थित और छिंदवाड़ा में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार ज्यादा संख्या में जीते हैं। इसके बाद भी दोनों के क्षेत्रों में जिला पंचायत का अध्यक्ष का चुनाव रोचक हो सकता है। इन दोनों दिग्गज नेताओं के जिलों के अलावा कई अन्य जिलों में भी जिला पंचायत अध्यक्ष के साथ जनपद अध्यक्ष का चुनाव बेहद करीबी मामला हो सकता है। दोनों ही दलों ने जिला और जनपद पंचायत में अपने-अपने अध्यक्ष के लिए जोर लगा रहे हैं।

ये भी सामने आए परिणाम
आदिवासी बाहुल्य जिला अलीराजपुर में 13 वार्डो में से भाजपा समर्थित 8 उम्मीदवार आगे हैं। मंडला में भाजपा 16 वार्डो में से 7 पर भाजपा जीती है। विदिशा में भाजपा समर्थित 12 उम्मीदवार जीते हैं। यहां पर कुल 19 वार्ड हैं। जिसमें से सात पर कांग्रेस जीती है। यहां पर जिला पंचायत अध्यक्ष का पद अनारक्षित महिला के लिए है। वहीं ऐसा माना जा रहा है कि तीनों चरणों के हुए मतदान के बाद अधिकांश जिलों में भाजपा समर्थित ही जिला पंचायत के अध्यक्ष बनेंगे।

सीहोर
जिला पंचायत के 17 वार्ड में 8 भाजपा समर्थित और एक भाजपा से जुड़े उम्मीदवार की जीत हुई है। वहीं कांग्रेस के 7 समर्थित उम्मीदवार जीते हैं, जबकि एक कांग्रेस से जुड़े हुए उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है। ऐसे में भाजपा के पास 9 और कांग्रेस के पास  8 सदस्यों की संख्या हैं, लेकिन दावा दोनों ही दल जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए कर रहे हैं।

छिंदवाड़ा
के 26 वार्डो में से कांग्रेस समर्थित 12 उम्मीदवार और भाजपा समर्थित दस उम्मीदवार जीते हैं। इसके एक पर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी, एक में निर्दलीय अरुण परते जीते। दो वार्डो में कांग्रेस और भाजपा का दावा है कि उनसे जुड़े उम्मीदवार चुनाव जीते हैं। जिला अध्यक्ष का चुनाव जीतने के लिए 14 सदस्यों के वोट चाहिए होंगे।