मुंबई
 शिवसेना के सांसद संजय राउत ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक कथित मामले की जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) के समक्ष पेश होने के लिए मंगलवार को अतिरिक्त समय मांगा, जिसकी अनुमति एजेंसी ने उन्हें दे दी। ईडी ने संजय राउत को दूसरा समन भेजते हुए 1 जुलाई को पूछताछ के लिए पेश होने के लिए बुलाया है। शिवसेना सांसद ने 7 जुलाई तक का समय मांगा था, लेकिन ईडी ने उनकी याचिका खारिज कर दी है।

 

राउत के वकील पेशी के लिए अतिरिक्त समय देने की मांग को लेकर पूर्वान्ह करीब सवा 11 बजे जांच एजेंसी के कार्यालय पहुंचे थे। वकील ने कहा, ‘‘ ईडी का समन सोमवार देर रात मिला था। ईडी ने कुछ दस्तावेज मांगे हैं, इसलिए हमने कुछ अतिरिक्त समय देने का अनुरोध किया।'' उन्होंने कहा, ‘‘ इतने कम समय में उन दस्तावेजों को एकत्रित करना संभव नहीं था, इसलिए हमने ईडी से समय मांगा था और उसने हमें समय दे दिया है।''

 

वकील ने बताया कि उन्होंने 14 दिन का समय मांगा था लेकिन ईडी ने 1 जुलाई को पेश होने को कहा है। इस बीच, राउत ने पत्रकारों से कहा कि वह पार्टी के कुछ कार्यक्रमों में व्यस्त हैं और उसके बाद केंद्रीय एजेंसी के कार्यालय जाएंगे। शिवसेना के प्रमुख प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ कुछ लोग हमें जेल पहुंचाना और राज्य चलाना चाहते है, जैसा कि आपातकाल के दौरान हुआ था।'' रातउ ने कहा, ‘‘ मैं अपने काम निपटाने के बाद ईडी के समक्ष पेश हो जाऊंगा। मैं एक सांसद हूं। मुझे कानून पता है। भले ही कानून प्रवर्तन एजेंसियां गलत तरीके से काम कर रही हैं, लेकिन मैं कानून का पालन करने वाला व्यक्ति हूं।