नई दिल्ली
 भारत की निर्वाचित राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह 25 जुलाई को संसद भवन के सेंट्रल हॉल में होगा। इसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। शपथ ग्रहण समारोह के कारण कुछ सरकारी ऑफिस को आंशिक रूप से बंद करने का शुक्रवार को निर्देश दिया गया। समारोह के दौरान नए संसद भवन का निर्माण कार्य भी बंद करना होगा। सभी सरकारी विभागों/मंत्रालयों को जारी आदेश में कहा गया है कि भारत की निर्वाचित राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह 25 जुलाई को यहां संसद भवन के सेंट्रल हॉल में होगा।

आदेश के अनुसार 25 जुलाई को सुबह छह बजे तक कुल 30 कार्यालयों को खाली कराया जाएगा। ये ऑफिस समारोह के खत्म होने तक बंद रहेंगे। इसमें कहा गया है कि अभी नए संसद भवन का निर्माण कार्य भी चल रहा है और उसे भी समारोह के दौरान रोकने की आवश्यकता होगी।

आदेश के अनुसार, जिन इमारतों को जल्दी खाली कराया जाएगा उनमें साउथ ब्लॉक, नॉर्थ ब्लॉक, रेल भवन, कृषि भवन, शास्त्री भवन, संचार भवन, प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) इमारत, सेना भवन, वायु भवन, उद्योग भवन और निर्माण भवन शामिल हैं। ये इमारतें 25 जुलाई को सुबह छह बजे से दोपहर दो बजे तक बंद रहेंगी।

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू सोमवार को संसद भवन के ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष में शपथ लेंगी और इसके मद्देनजर उस दिन संसद के दोनों सदनों की बैठक दोपहर दो बजे शुरू होगी। लोकसभा एवं राज्यसभा की आम तौर पर कार्यवाही पूर्वाह्न 11 बजे आरंभ होती है। राज्यसभा में पीठासीन अध्यक्ष सस्मित पात्रा ने इसकी घोषणा की। इसके मद्देनजर सभापति एम. वेंकैया नायडू ने फैसला किया है कि उस दिन उच्च सदन की बैठक दोपहर दो बजे शुरू की जाए ताकि सदस्य शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हो सकें।

राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने गुरुवार को जीत दर्ज की। उनहोंने विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को पराजित किया। मुर्मू राष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचित होने वाली पहली आदिवासी महिला हैं। सोमवार को भारत के प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना संसद के केंद्रीय कक्ष में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति मुर्मू को शपथ दिलाएंगे।