कोंडागांव

जिले के नहरपारा निवासी प्रार्थिया सीता पोयाम ने 22जुलाई को सुबह 7 बजे रिपोर्ट दर्ज करायी कि उसके पिता मंगलराम पोयाम का शव घर की सीढ़ियों में पड़ा हुआ है, उसके सिर में चोट के निशान हैं। मौके पर पहुंचकर पुलिस घटनास्थल का मुआयना करने, एवं मृतक के शव के पीएम रिपोर्ट के आधार पर यह पाया गया कि मृतक मंगलराम पोयाम की हत्या सिर में किसी हथियार से वार करने व गला घोंटने से हुई है, जिसे दुर्घटना का रूप देने का प्रयास हत्यारे के द्वारा किया गया है। मामले में अज्ञात हत्या के आरोपी के विरूद्व अपराध कायम कर कोंडागांव पुलिस अधीक्षक  दिव्यांग पटेल के निर्देशन टीम का गठन कर अपराध विवेचना में परिस्थिति जन्य साक्ष्यों के आधार पर संदेही सागर यादव निवासी ग्राम भैसाबेड़ा उमरगांव अ से गहन पूछताछ में हत्या करना स्वीकार करते हुए बताया कि मृतक मंगलराम के सिर में सब्बल मारकर, एवं वायर से उसका गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी, एवं अपराध छिपाने के लिये शव को सीढ़ियों पर लेटाकर दुर्घटना का रूप देने का प्रयास किया। हत्या में प्रयुक्त सब्बल, बिजली वॉयर और आरोपी के खून सने कपड़े को आरोपी के निशानदेही पर बरामद कर आरोपी सागर यादव को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार गिरफ्तार सागर यादव पूछताछ में अपना जुर्म कबूल कर अपने मेमोरेंडम कथन में बताया कि वह मृतक की पुत्री सीता पोयाम का विगत 01 साल से दोस्त है, जिससे उसकी रोज बात होती है। बातचीत में सीता पोयाम उसे बताती थी कि उसका पिता मंगलराम पोयाम रोज शराब पीकर घर आता है और उसे गंदी गंदी गालियां देता है, जिससे वह परेशान हैै। 21 जुलाई  की शाम 07 बजे करीब वह सीता पोयाम के घर गया था, मंगलराम पोयाम शराब पीकर घर आया और फिर से सीता पोयाम और उसे भी गंदी गंदी गालियां दिया, जिससे की वह मंगलराम के घर से निकल गया और कोंडागांव में घूमते हुये उसने अपनी दोस्त सीता पोयाम को उसके पिता के रोज रोज के गाली गलौच से बचाने के लिये मंगलराम पोयाम के हत्या की योजना बनायी, और रात करीब 08-09 बजे के बीच पुन: मंगलराम के घर जाकर खाट में सोये हुए मृतक मंगलराम के सिर में सब्बल मारकर, एवं वायर से उसका गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी।