कोलंबो
सबसे खराब आर्थिक संकट को झेल रहे श्रीलंका में बीते दिन प्रदर्शनकारियों ने जमकर हिंसा की। हिंसा का आलम ये था कि प्रदर्शनकारियों ने पीएम विक्रमसिंघे के निजी आवास तक को आग के हवाले कर दिया और राष्ट्रपित राजपक्षे के आवास में कब्जा कर लिया। इस बीच राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के घर पर धावा बोलने वाले प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि उनके आवास से करोड़ो रुपये की नकदी बरामद हुई है। श्रीलंका के दैनिक समाचार पत्र डेली मिरर के अनुसार, यह बताया गया कि बरामद धन सुरक्षा एजेंसियों को सौंप दिया गया है।

प्रदर्शनकारी नोटों को गिनते हुए दिखे
स्थानीय मीडिया के अनुसार सोशल मीडिया पर एक वीडियो में प्रदर्शनकारी उन नोटों को गिनते हुए दिखाई दे रहे हैं, जिनके बारे में उन्होंने दावा किया था कि उन नोटों को राष्ट्रपति के आधिकारिक आवास से बरामद किया गया था। श्रीलंकाई अधिकारियों ने कहा कि स्थिति को तभी समझा जा सकता है जब वे इसकी जांच करें और प्रासंगिक तथ्य सामने आएं। मीडिया पोर्टल के अनुसार, चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल शैवेंद्र सिल्वा ने सभी नागरिकों से देश में शांति बनाए रखने के लिए सशस्त्र बलों और पुलिस को अपना समर्थन देने का आग्रह किया। उन्होंने ये टिप्पणी ट्राई फोर्स कमांडरों के साथ एक विशेष बयान में की।

पर्यटन और श्रम एवं विदेश रोजगार मंत्री का इस्तीफा
इस बीच, श्रीलंका के पर्यटन मंत्री हरिन फर्नांडो और श्रम और विदेश रोजगार मंत्री मानुषा नानायकारा ने कहा कि उन्होंने तत्काल प्रभाव से अपने मंत्री पद से हटने का फैसला किया है। अभूतपूर्व आर्थिक संकट से नाराज श्रीलंकाई प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के निजी आवास में भी तोड़-फोड़ की और आग लगा दी जिसका सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल है। बता दें कि इसके चलते राष्ट्रपति को एक अज्ञात स्थान पर भागने के लिए मजबूर होना पड़ा। प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के इस्तीफे की मांग के साथ राष्ट्रपति आवास में घुस गए और पुलिस द्वारा लगाए गए सुरक्षा घेरे को तोड़ दिया। वे स्विमिंग पूल में डुबकी लगाते और उनकी रसोई और घर में हुरदंग मचाते भी देखे गए।