अंबिकापुर
एसोसिएशन आॅफ अनएडेड प्राइवेट प्रोफेशनल कॉलेज छत्तीसगढ़ की रविवार को अम्बिकापुर में बैठक आयोजित की गई। बैठक में बीएड कालेजों द्वारा लिए जा रहे शैक्षणिक शुल्क में वृद्धि के लिए सामूहिक पहल करने की बात पर सहमति बनी। संत हरकेवल शैक्षणिक महाविद्यालय में आज आयोजित सरगुजा संभाग के इस बैठक में अनेक मुद्दों पर चर्चा हुई।

चर्चा के दौरान बी एड के शैक्षणिक शुल्क की बढ़ोत्तरी हेतु संगठन की ओर से नवगठित फीस नियमक आयोग के समक्ष फीस बढ़ोत्तरी के संबंध में पक्ष रखने की बात कही गई। बैठक के दौरान यह बात सामने आई कि अन्य राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ में बीएड का शैक्षणिक शुल्क बहुत ही कम है। शुल्क में वृद्धि के लेकर कालेजों के द्वारा किए जा रहे एकल प्रयास का इतने सालों में कोई परिणाम नहीं मिला है। बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों ने संगठन के माध्यम से सामूहिक पहल की बात कही। बैठक के दौरान कालेज  संचालकों ने कहा कि शासकीय नियमों के तहत शैक्षणिक और अशैक्षणिक कर्मचारियों के  वेतन -भत्ता के भुगतान और बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के खर्च में बेतहाशा वृद्धि हो जाने के कारण कालेज के संचालन में बहुत दिक्कत हो रही है।

विश्वविद्यालय द्वार नए विषय खोले जाने के लिए कालेजों से जो इंडोमेंट फंड लिया जाता है वह कहीं से भी उचित नहीं है। इस संबंध में प्रशासनिक स्तर पर पहल कर शीघ्र ही समाधान करने की बात हुई। एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश शुक्ला ने कहा कि संगठन कालेजों के हर प्रकार की समस्याओं के समाधान के लिए मदद के लिए हमेशा तैयार है। शुक्ला ने कहा कि कालेज संचालकों को शासन और प्रशासन के स्तर पर किसी भी प्रकार की सहयोग की जरूरत होगी संगठन साथ होगी। बैठक में एसोसिएशन के सचिव सिद्धार्थ दास, डॉ.अंजन सिंह, परमेन्द्र तिवारी,पवन शर्मा, राजरूप छाजेड़, रानी रजक,जयमाला सिंह, त्रिलोचन सिंह भामरा, डॉ.श्रद्धा मिश्रा, प्रिय लता पांडेय, प्रिती सोनी, रानी पांडेय, पूजा दुबे सहित अनेक सदस्य उपस्थित थे।