नई दिल्ली

चीन ने एक बार फिर भारतीय हवाई सीमा का उल्लंघन किया है। चीनी वायुसेना के एक विमान ने पूर्वी लद्दाख में तैनात भारतीय जवानों के बेहद करीब से उड़ान भरी। यह घटना जून के आखिरी हफ्ते में एलएसी के करीब की बताई गई है। मामला सामने आने के बाद भारतीय वायुसेना ने इसको लेकर कड़ी आपत्ति जताई है। सूत्रों का कहना है कि यह घटना ऐसे समय में हुई है, जबकि चीनी वायुसेना पूर्वी लद्दाख से जुड़ी सीमा पर सैन्य अभ्यास में जुटी हुई है। इस दौरान तमाम फाइटर जेट और एस-400 जैसे एयर डिफेंस सिस्टम जैसे रक्षा हथियार इस्तेमाल किए जा रहे हैं।

जून के आखिरी हफ्ते की घटना
जानकारी के मुताबिक यह घटना जून के आखिरी हफ्ते में सुबह चार बजे के करीब हुई। वहां तैनात जवानों ने वहां से गुजरते हुए चीनी एयरक्राफ्ट को देखा। सूत्रों के मुताबिक इसके अलावा सीमा पर तैनान राडार पर भी इस विमान की आवाजाही दर्ज की गई है। एयर स्पेस में दखलअंदाजी को देखते हुए भारतीय वायुसेना ने स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर के तहत जरूरी कदम उठाए।

फिलहाल हालात सामान्य
सूत्रों के मुताबिक चीनी विमानों के भारतीय सैनिकों के पास गुजरने की घटना की आधिकारिक शिकायत के बाद फिलहाल ऐसा कुछ देखने में नहीं आया है। चीन ने भारतीय सीमा के करीब बड़ी संख्या में फाइटर जेट्स और अनजान एयरक्राफ्ट तैनात कर रखे हैं। दो साल पहले अपग्रेड किए गए इन विमानों को होतान और गार गुंसा जैसे हवाई क्षेत्रों में रखा गया है। गौरतलब है कि साल 2020 में चीन के साथ सीमा पर युद्ध जैसे हालात बन गए थे। चीन ने बड़ी संख्या में अपने जवानों को पूर्वी लद्दाख में तैनात भारतीय सेना की तरफ भेज दिया था। इस दौरान क्षेत्र में कई बार लड़ाइयां हुईं आपसी संघर्ष देखने को मिला।