मुंबई
महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे सरकार ने सोमवार को विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया है. पहली बार सीएम शिंदे ने विधानसभा के सदस्यों को संबोधित किया. इस दौरान शिंदे ने उस वाक्ये को भी याद किया, जब उनकी आंखों के सामने बेटा-बेटी की डूबने से मौत हो गई थी. उन्होंने विधानसभा में ये भी कहा कि मैं गद्दार नहीं हूं.

शिंदे विधानसभा भाषण में बेहद भावुक हो गए. उन्होंने याद किया कि कैसे उनके बच्चों की सतारा में डूबने से मौत हो गई थी और वे सार्वजनिक जीवन से बाहर आ गए थे. लेकिन उन्होंने फिर से शिवसेना के लिए काम करना शुरू किया और संगठन में काम किया.

एक तरफ उन्होंने बालासाहेब ठाकरे और आनंद दिघे की विरासत का जिक्र किया तो वहीं अपनी बगावत पर भी बात की। उन्होंने कहा कि मेरे सीएम बनने से बालासाहेब ठाकरे का सपना पूरा हुआ है। यही नहीं इस दौरान उन्होंने उद्धव ठाकरे गुट पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि विधान परिषद के चुनाव के दौरान मुझसे बदसलूकी की गई थी। एकनाथ शिंदे ने कहा कि उद्धव ठाकरे ने मुझसे पूछा था कि कहां जा रहे हो? कब आओगे? इस पर मैंने कहा था कि मैं नहीं जानता। मुझे बालासाहेब ठाकरे ने अन्याय से लड़ने का सबक दिया था और उसी के अनुसार मैं अपने मिशन पर निकल गया।

एकनाथ शिंदे ने कहा, मैं महाराष्ट्र में गरीब और कमजोर तत्वों की प्रगति के लिए प्रार्थना करता हूं। बालासाहेब ठाकरे और आनंद दिघे के आशीर्वाद से शिवसेना-भाजपा गठबंधन की सरकार बनी है। एकनाथ शिंदे ने कहा कि पिछले एक पखवाड़े से मुझ पर विश्वास करके इतना बड़ा फैसला लेने के लिए शिवसेना के 40 और छोटे दलों के 10 विधायकों को बधाई। उन्होंने कहा कि मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा है कि मैं सीएम के तौर पर बोल रहा हूं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में हुए इस पूरे घटनाक्रम को लेकर देवेंद्र फडणवीस ने मुझे बताया कि इस घटना की रिपोर्ट 33 देशों ने की थी। सत्ता में मैं शहरी विकास मंत्री था। गुलाबराव पाटिल से लेकर उदय सामंत तक जनता के मंत्री थे। बाईं ओर अपने-अपने मंत्री पद के साथ 40 विधायक और 10 विधायक थे। 

 

'वह कौन था जिसने बाला साहब के मतदान पर 6 साल के लिए प्रतिबंध लगाया था'
श‍िंदे ने आगे कहा, 'हम शिवसैनिक हैं और हम हमेशा बालासाहेब और आनंद दिघे के शिवसैनिक रहेंगे। मैं आप सभी को याद दिलाना चाहता हूं कि वह कौन था जिसने बाला साहब के मतदान पर 6 साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया था..।'
उन्होंने यह भी खुलासा किया कि उन्हें एमवीए सरकार में शुरू में सीएम बनाया जाना था। लेकिन बाद में अजीत पवार या किसी ने कहा कि उन्हें सीएम नहीं बनाया जाना चाहिए। शिंदे ने कहा क‍ि मुझे कोई समस्या नहीं थी और मैंने उद्धव ठाकरे को आगे बढ़ने के लिए कहा और मैं उनके साथ था। मैंने उस पोस्ट पर कभी नजर नहीं डाली।

'कांग्रेस एमवीए गठबंधन में रहेगी'
मैंने कुछ रिपोर्टें देखीं कि कांग्रेस के महाराष्ट्र में एमवीए गठबंधन से बाहर निकलने की संभावना है। यह गलत है। कांग्रेस ने न तो इस पर चर्चा की और न ही कुछ तय किया। अफवाहें सच्चाई से कोसों दूर हैं। एमवीए गठबंधन स्थिर है। मैं वह था जिसने ठाणे में 16 से अधिक डांस बार बंद किए। मेरे खिलाफ 100 से अधिक मामले हैं। लेकिन उनमें से कोई भी पारिवारिक मुद्दे से संबंधित नहीं है सभी पार्टी के लिए हैं।