रायपुर
राजधानी रायपुर में पहली बार 150 से ज्यादा साधक आत्माओं का चातुर्मास समागम होने जा रहा है। श्वेतांबर दिगम्बर के 71 साधु साध्वियों का आगमन हो गया है। जैन संवेदना ट्रस्ट के महेन्द्र कोचर व विजय चोपड़ा ने बताया कि इस चातुर्मास में विशाल चतुर्विध संघ का समागम होने जा रहा है। साधु साध्वी श्रावक श्राविका विशाल समुदाय चातुर्मास में धर्म मार्ग को समझाने का प्रयास करेंगे। जैन धर्म में चातुर्मास का विशेष महत्व है , वषार्काल में जल के जीव , वनस्पति व वातावरण में जीवों की उत्तपत्ति बहुत ज्यादा होती है। उन सभी जीवों को अभयदान की भावना से जैन साधु साध्वी एक स्थल में ही विश्राम करते हैं और सभी श्रावक श्राविकाओं सहित धर्ममय जीवन जीने का प्रयास करते हैं। इसके पश्चात जैन साधु साध्वी 8 माह पद विहार करते हुए अनेक शहर ग्रामों में विचरण करते हुए जनमानस को धर्म व नैतिक मूल्यों की शिक्षा देते हैं। रायपुर में इस वर्ष ऐतिहासिक चातुर्मास में जन जन को दया करुणा भाईचारे व जीयो और जीने दो का संदेश देने अनेक गुरुभगवंत 1500 किलोमीटर का पद विहार कर पधार गए हैं। इस हेतु व्यापक तैयारी अंतिम चरण में है। कई गुरुभगवंत का मंगल प्रवेश हो चुका है। सभी गुरुभगवंत 13 जुलाई तक अपने चातुर्मास स्थल तक पहुंच जायेंगे।

महेन्द्र कोचर व विजय चोपड़ा ने बताया कि जैन संवेदना ट्रस्ट सभी चातुर्मास में सक्रियता से भाग लेगा व मानव सेवा , मूक पशु पक्षियों की सेवा व समसामयिक विषयों पर अनेक विचार विमर्श के कार्यक्रम करेगा। कोचर ने आगे बताया कि  दिगम्बर जैन संत आचार्य 108 श्री विशुद्ध सागर जी अपने 27 मुनिभागवंतों के साथ फाफाडीह स्थित दिगम्बर जैन मंदिर में धर्म के मर्म का उपदेश देंगे। आपके साथ बड़ी संख्या में छुल्क धर्म के मार्ग पर आगे बढ?े साधना रत होंगे। राष्ट्र संत श्री ललितप्रभ सागर जी म सा , श्री शांतिप्रिय सागर जी का चातुर्मासिक प्रवचन आउटडोर स्टेडियम बूढ़ापारा में होगा। राष्ट्र संत श्री ललितप्रभ सागर जी म सा के उपदेश जीवन निर्माण में सहायक होंगे। ज्ञान गच्छ के मुनिभागवंतों पूज्य रविन्द्र मुनि जी ठाणा 3 का चातुर्मास सुधर्म विहार भैरव सोसायटी में होगा। समता मुकीम भवन , शैलेन्द्र नगर में शासन दीपक श्री अक्षय मुनि जी म.सा व श्रद्धेय श्री दिनेश मुनि जी म.सा. के धार्मिक कार्यक्रम , प्रवचन व अन्य क्रियायें होंगी।

वर्धमान जिनालय न्यू राजेन्द्र नगर में जैन साध्वी श्री स्नेहयशा श्री जी म सा का 6 शिष्याओं सहित धर्मसभा  में प्रवचन होगा। यहाँ भी पहली बार चातुर्मास होने जा रहा है। पूरे क्षेत्र में धर्ममय वातावरण बना हुआ है। भैरव सोसायटी हीरसुरी आराधना भवन में मुनिभगवंत श्री शाम्य तिलक जी म सा सहित 10 साधु जी व जैन साध्वी जी श्री गुणदर्शिता श्री जी सहित 10 साध्वियों द्वारा धर्म व नैतिकता का संदेश दिया जावेगा। विवेकानंद नगर श्री ज्ञानवल्लभ उपाश्रय में साध्वी जी श्री मनोरंजना श्री जी श्री वसुंधरा श्री जी ठाणा 5 द्वारा जैन धर्म की शिक्षा प्रदान की जावेगी। नवकार भवन बैरन बाजार में महासती श्री प्रभावती श्री जी म सा ठाणा 4 वषार्वास हेतु विराजित रहेंगे। प्रतिदिन प्रवचन , प्रतिक्रमण व अन्य कार्यक्रम होंगे।