नई दिल्ली
 केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान (kerala governor arif mohammad khan) ने कहा कि मदरसों में ईशनिंदा करने वालों का सिर कलम करने की बात सिखाई जाती है। उन्होंने कहा कि मासूम बच्चों को ही यह ट्रेनिंग दी जा रही है कि कोई विरोध में बोले तो उसका सिर काट दो। राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल की निर्मम हत्या के बारे में जब उनसे सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि सवाल यह है कि क्या हमारे बच्चों को यह सिखाया जा रहा है कि जो ईशनिंदा करे, उसका गला काट दिया जाए।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि यह कानून कुरान से नहीं आया है। यह कानून कुछ लोगों ने शहंशाहों के जमाने में बनाए। अब यही कानून बच्चों को सिखाया जा रहा है। राज्यपाल ने कहा कि 14 वर्ष तक के बच्चों को शिक्षा का अधिकार है, उन्हें आप शिक्षा से वंचित नहीं रख सकते लेकिन स्पेशलाइज्ड तरीके की शिक्षा नहीं दे सकते। उन्होंने कहा कि हम लक्षण देखकर चिंता तो व्यक्त करते हैं लेकिन बीमारी को मानने से इनकार कर देते हैं।

कट्टरता की करते हैं आलोचना
केरल के राज्यपाल हमेशा कट्टरता का विरोध करते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि मौलाना और मदरसे मुसलमानों के एक तबके को कट्टर बना रहे हैं। वे गैर-मुसलमानों के खिलाफ भड़काते हैं, जिससे नफरत पैदा होती है। दूसरे धर्मों के प्रति नफरत का भी यही कारण है। मदरसे से निकले बच्चे जब बड़े होते हैं तो उनके जेहन में दूसरे धर्म और उनको मानने वालों के प्रति संदेह भरा होता है। इस पर तत्काल रोक लगाने की आवश्यकता है।

क्या है उदयपुर का कन्हैया लाल मर्डर मामला
28 जून, दिन मंगलवार। दोपहर में बाइक सवार 2 लोग शहर के धानमंडी इलाके में मौजूद सुप्रीम टेलर्स की दुकान में घुसे। दोनों ने दुकानदार कन्हैयालाल (40) से कहा- हमें कपड़े सिलवाने हैं। कन्हैया ने नाप लेना स्टार्ट कर दिया। तभी अचानक पीछे खड़े हत्यारे ने धारदार हथियार से उसके ऊपर हमला कर दिया। दोनों ने तलवार से कई वार कन्हैया के ऊपर किया। ऑन द स्पॉट उसकी मौत हो गई। बता दें, कुछ दिन पहले उसने नुपुर शर्मा के सपोर्ट में एक पोस्ट सोशल मीडिया पर डाला था। जिसके बाद समुदाय विशेष से उसको लगातार धमकियां मिल रही थी। उसने 6 दिन से दुकान भी नहीं खोली थी। इतना ही नहीं, उसने धमकी देने वालों के खिलाफ पुलिस में नामजद रिपोर्ट भी दर्ज करवाई थी लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। वो गोवर्धन विलास इलाके का रहने वाला था। हालांकि, पुलिस ने कन्हैयालाल के दोनों हत्यारे रियास और गोस मोहम्मद को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों उदयपुर के सूरजपोल क्षेत्र के निवासी हैं।