लंदन
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। उनके दो मंत्रियों ने अपने-अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। वित्त मंत्री ऋषि सुनक और स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने सांसद क्रिस पिंचर के प्रमोशन के विरोध में यह कदम उठाया है। दोनों ही पार्टी के वरिष्ठ नेता थे। ऐसे में बोरिस जॉनसन के नेतृत्व पर सवाल उठ रहे हैं।  बता दें कि क्रिस पिंचर पर यौन उत्पीड़न के भी आरोप लग चुके हैं। इसके अलावा पिंचर ने लंदन क्लब में दारू पीने के बाद दो लोगों के साथ अभद्रता की थी। जिसके बाद 30 जुलाई को उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था। बोरिस जॉनसन को यह पहला झटका नहीं है  बल्कि पार्टीगेट स्कैंडल के बाद उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था। वहीं उनकी पार्टी दो उपचुनावों में हार का सामना कर चुकी है।

अपने त्यागपत्र में वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा, जब पूरी दुनिया आर्थिक संकट से जूझ रही है, कोविड महामारी और रूस -यूक्रेन का युद्ध चुनौती बना हुआ है, ऐसे समय में यह फैसला लेना आसान नहीं है। हालांकि जनता इस बात की उम्मीद रखती है कि सरकार सही कदम उठाएगी। मैं जानता हूं कि हो सकता है मैं जीवन में आखिरी बार मंत्री बना हूं लेकिन सरकार के स्टैंडर्ड को मेनटेन रखने के लिए यह आवश्यक हो गया है। इसलिए मैं इस्तीफा दे रहा हूं। वहीं स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने कहा, मुझे कहते हुए दुख हो रहा है कि मैं अब और इस पद पर नहीं रहूंगा।  मैंने लोगों की भलाई के लिए ही सरकार में सेवा देने का फैसला किया था। मैं जानता हूं कि लोग हमारी सरकार से क्या उम्मीदें रखते हैं।

आखिर 5 जुलाई को क्या हुआ था
मंगरवार का दिन यूके की राजनीति में बहुत ही अहम दिन था। दो मंत्रियों के इस्तीफा देने से पहले प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस बात के लिए माफी मांगी की 2019 में क्रिस पिंचर पर आरोप लगने के बाद भी उन्हें पद से हटाया नहीं गया। 1 जुलाई को प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि उन्हें क्रिस पिंचर पर लगे आरोपों के बारे में जानकारी नहीं थी।  इसके बाद सोमवार को ही बात पलट गई और उनके प्रवक्ता ने कहा कि जॉनसन को इस बारे में जानकारी थी।

साइमन मैकडोनाल्ड नाम के सीनियर सिविल सर्वेंट ने इस बात का भंडाफोड़ कर दिया कि 2019 में क्रिस पिंचर ने जो कुछ भी किया और इसके बाद कोर्ट में जिस तरह मामला चला उसकी पूरी जानकारी जॉनसन को थी। दरअसल 29 जून को पिंचर पिक्कादिली में एक क्लब में गए थे। इसके बाद दो लोगों ने आरोप लगाया कि पिंचर उनके साथ शराब पीने के बाद गलत हरकत कर रहे थे। इसके बाद उन्होंने अपने पद से  इस्तीफा दे दिया था। 2019 में पिंचर को विदेश मंत्री बना दिया गया और इस साल फरवरी में उन्हें डेप्युटी चीफ विप बनाया गया। उनको ही इस बात की जिम्मेदारी दी गई कि पार्टी में अनुशासन बनाकर रखें। पिंचर पर पहले भी कई आरोप लग चुके थे।