कोलंबो

श्रीलंका में हालत बेकाबू होते जा रहे हैं. आर्थिक संकट झेल रहे श्रीलंका में राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे और उनके परिवार को जमकर विरोध का सामना करना पड़ रहा है. ऐसा ही कुछ राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के छोटे भाई बासिल राजपक्षे के साथ हुआ, जब बीती रात उन्होंने देश छोड़ने की कोशिश की.

राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के भाई कोलंबो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचे थे. बताया जा रहा है कि वे देश छोड़ने की फिराक में थे. लेकिन एयरपोर्ट पर इमीग्रेशन स्टाफ ने ड्यूटी करने से इनकार कर दिया. एयरपोर्ट यूनियन ने बासिल राजपक्षे के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और हंगामा किया.

देश छोड़कर भागने की फिराक में थे बासिल
बासिल राजपक्षे सिल्क रूट का इस्तेमाल करके श्रीलंका से बाहर जाना चाहते थे. लेकिन एयरपोर्ट के इमीग्रेशन स्टाफ और यूनियन ने बीती रात कामकाज बंद कर दिया और उनका विरोध करने लगे. यहां जमकर नारेबाजी भी की गई. इसके बाद राजपक्षे को वापस लौटना पड़ा.

बासिल राजपक्षे श्रीलंका के पूर्व वित्त मंत्री हैं और हाल ही में उन्होंने इस्तीफा दिया था. श्रीलंका में राजपक्षे परिवार के खिलाफ श्रीलंका में भारी रोष है. दावा किया जा रहा है कि गोटाबाया राजपक्षे भी श्रीलंका छोड़कर भाग गए हैं. हालांकि, संसद के स्पीकर महिंदा यापा अभयवर्धने के प्रवक्ता ने कहा कि श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे अभी देश में ही हैं.

प्रदर्शनकारियों ने किया राष्ट्रपति भवन पर कब्जा

73 साल के गोटाबाया राजपक्षे ने अभी औपचारिक रूप से इस्तीफा नहीं दिया है, वे कहां हैं इसका किसी को पता नहीं है. दरअसल, पिछले दिनों हजारों प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति भवन में घुस गए थे, इसके बाद गोटाबाया राजपक्षे ने अपना आधिकारिक आवास छोड़ दिया था. इसके बाद से वे कहां है किसी को नहीं पता. हालांकि, राष्ट्रपति के सचिव लगातार राष्ट्रपति के बयान जारी कर रहे हैं.

इसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि राष्ट्रपति राजपक्षे देश छोड़कर भाग गए. दरअसल, स्पीकर महिंदा यापा अभयवर्धने ने बयान जारी कर कहा था कि राजपक्षे देश छोड़ चुके हैं, लेकिन बुधवार तक अपना इस्तीफा देने के लिए वापस आ जाएंगे. हालांकि, स्पीकर के ऑफिस से बाद में कहा गया कि बयान गलती से दिया गया, इसमें सुधार कर दिया गया है.