सूरत
सिंगापुर में आयोजित होने जा रहे वर्ल्ड सिटीज समिट में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 'दिल्ली मॉडल' पेश कर पाएंगे या नहीं इस पर अभी तक सस्पेंस बना हुआ है। उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने इसे मेयर्स का सम्मेलन बताते हुए दिल्ली सरकार की फाइल लौटा दी है। हालांकि, मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अब सीधे विदेश मंत्रालय से यात्रा की इजाजत मांगी है। केजरीवाल 1 अगस्त को सिंगापुर के लिए उड़ान भर पाएंगे या नहीं यह तो विदेश मंत्रालय की इजाजत पर ही निर्भर करेगा। फिलहाल हम आपको बता दें कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के अलावा इस समिट में गुजरात के सूरत की मेयर को भी बुलावा आया है।

सूरत की मेयर हेमाली बोघावाला भी सिंगापुर में होने जा रहे इस सम्मेलन में हिस्सा लेंगी। वर्ल्ड सिटीज समिट के आधिकारिक वेबसाइट पर मेहमानों की सूची में हेमाली बोघावाला का नाम भी शामिल है। हेमाली के परिचय में लिखा गया है कि हेमाली सूरत की निर्वाचित मेयर हैं। दो दशक से अधिक के राजनीतिक करियर में वह सूरत नगर निगम में अलग-अलग प्रशासनिक पदों और गुजरात सरकार में काम कर चुकी हैं। उनके नेतृत्व में शहर में कई नए प्रॉजेक्ट्स शुरू किए गए। वह समाज के कमजोर वर्ग के कल्याण के लिए लगन से काम करती है। वह अर्थशास्त्र और समाजशास्त्र में स्नातक हैं। शहरी गतिशीलता, महिला सशक्तिकरण और सामाजिक-सांस्कृतिक उत्थान में बहुत अनुभव रखती हैं। अध्ययन और यात्रा में दिलचस्पी रखती हैं। बता दें, कि हेमाली भाजपा महिला मोर्चा की महासचिव भी रह चुकी हैं।  

केंद्र सरकार के प्रतिनिधि भी होंगे शामिल
मेहमानों की सूची में संजीव सान्याला का भी नाम है, जो पीएमओ में इकनॉमिक अडवाइजरी काउंसिल के सदस्य हैं। सान्याल आर्थिक जगत में 2 दशक से अधिक समय से काम कर रहे हैं और दुनिया के जाने-माने अर्थशास्त्री हैं। 2015 तक ड्यूश बैंक के एमडी के रूप में काम कर चुके हैं। 2014 में वह वर्ल्ड सिटीज समिट के यंग लीडर थे। 2010 में इन्हें वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम में भी यंग ग्लोबल रीडर नामित किया गया था। सान्याल दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में पढ़ चुके हैं।

अभी केजरीवाल का नाम नहीं है शामिल
वेबसाइट पर 'हू इज कमिंग' नाम के सेक्शन में उन लोगों की सूची है जो इस बार इस समिट में भाग लेने जा रहे हैं। हालांकि, अभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम नहीं है। संभवत: यात्रा की मंजूरी नहीं मिलने की वजह से दिल्ली के सीएम ने अभी अपने आने की पुष्टि नहीं की है और इसलिए लिस्ट में अभी उनका नाम नहीं जुड़ा है। बता दें दिल्ली सरकार ने 7 जून को उपराज्यपाल को फाइल भेजकर सीएम की यात्रा के लिए मंजूरी की मांग की थी। 20 जुलाई को एलजी ऑफिस की ओर से इसे लौटा दिया गया है।