वाशिंगटन
अमेरिका में अश्वेत जार्ज फ्लायड की हत्या के मामले में मिनियापोलिस के पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चाउविन के विरुद्ध अमेरिकी डिस्टि्रक्ट जज पाल मैगनुसन गुरुवार को अंतिम निर्णय सुनाएंगे। चाउविन को निचली अदालत से पहले ही साढ़े 22 साल जेल की सजा सुनाई जा चुकी है। अभियोजन पक्ष उन्हें 25 साल सजा सुनाने की मांग कर रहा है, जबकि बचाव पक्ष 20 साल सजा की चाहता है। उल्लेखनीय है कि 2020 की घटना को लेकर संघीय याचिका दाखिल करते समय चाउविन ने पहली बार स्वीकार किया था कि उन्होंने फ्लायड की गर्दन पर घुटना रखा था, इसके बाद उसकी मौत हो गई थी। घटना के बाद देशभर में रंगभेद को लेकर उग्र प्रदर्शन हुए थे।

कौन थे जॉर्ज फ्लॉयड
46 साल के अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड अफ्रीकी अमेरिकी समुदाय के थे। वह नॉर्थ कैरोलिना में पैदा हुए थे और टेक्सास के ह्यूस्टन में रहते थे। फ्लॉयड काम खोजने के लिए कई साल पहले मिनियापोलिस चले गए थे। जॉर्ज मिनियापोलिस के एक रेस्त्रां में सुरक्षा गार्ड का काम करते थे और उसी रेस्त्रां के मालिक के घर पर किराया देकर पांच साल से रहते थे। जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद ओरेगन प्रांत के पोर्टलैंड शहर में 100 दिनों से ज्यादा नस्लभेद विरोधी प्रदर्शन हिंसक घटनाएं हुईं थी। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर बमों से हमला किया था, जिसमें एक पुलिस अधिकारी घायल हो गया था। लुइसविले में सशस्त्र पुलिस समर्थक और नस्लभेद विरोधी प्रदर्शनकारी आपस में भिड़ गए थे। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस का उपयोग किया था। तभी टेक्सास के ट्राविस लेक पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थन में 'बोट परेड' का आयोजन किया गया था।

आपको बता दें कि 25 मई को अमेरिका के मिनिपोलिस में फ्लॉयड को एक दुकान में नकली बिल का इस्तेमाल करने पर गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी के बाद पुलिस फ्लायड को गाड़ी में बैठाने की कोशिश कर रही थी, उसी दौरान वह जमीन पर गिर गया और उसकी मौत हो गई। हालांकि बाद में एक वीडियो सामने आया, जिसमें श्वेत पुलिस अधिकारी फ्लायड की गर्दन को घुटने से दबाता दिख रहा था। पुलिस फ्लायड की गर्दन को तब तक दबा कर रखा था जब तक उसकी मौत नहीं हो गई।