कश्मीर

राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी दलों के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने अमरनाथ गुफा मंदिर के पास बादल फटने से लोगों की मौत पर दुख जताया और सरकार से इस घटना के बारे में तथ्य देश के सामने रखने का आग्रह किया।

अपनी उम्मीदवारी को लेकर समर्थन जुटाने के प्रयास के तहत शनिवार सुबह यहां पहुंचे सिन्हा ने कश्मीर के विपक्षी दलों के साथ बैठक में यह बात कही। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘मैं अमरनाथ त्रासदी में लोगों की मौत पर गहरा दुख व्यक्त करता हूं। हमें नहीं पता कि कितने लोग मारे गए लेकिन ऐसा लगता है कि कई लोगों की जान गई।’’

सिन्हा ने कहा, ‘‘यह हमारा कर्तव्य है कि हम सच्चाई को सामने लाने की कोशिश करें। सरकार को त्रासदी के बारे में तथ्यों को देश के सामने रखना चाहिए और कुछ भी नहीं छिपाना चाहिए।’’ अमरनाथ गुफा मंदिर के पास बादल फटने से अचानक आई बाढ़ में कम से कम 16 लोगों की मौत हो गई और 25 घायल हो गए। अधिकारियों के मुताबिक मलबे में कई लोगों के फंसे होने की आशंका है।

अचानक आई बाढ़ और भूस्खलन में तंबू और सामुदायिक रसोई बह जाने के बाद लापता लोगों की तलाश बिना किसी रुकावट के जारी रही। प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 30 जून से शुरू हुई वार्षिक अमरनाथ यात्रा को त्रासदी के बाद स्थगित कर दिया गया है और बचाव अभियान खत्म होने के बाद इसे फिर से शुरू करने पर फैसला लिया जाएगा।