गढ़वा
 
करीब 18 साल बाद स्कूल में प्रार्थना करने का तरीका बदल गया। हिन्दुस्तान में मंगलवार के अंक में एक और स्कूल में आया हाथ बांधकर प्रार्थना करने का मामला शीर्षक से खबर प्रकाशित होने के बाद बुधवार को स्कूल में बच्चों ने हाथ जोड़कर प्रार्थना की। विद्यालय में प्रार्थना का तरीका बदलने पर किसी तरह का न तो विवाद हुआ न ही कोई हस्तक्षेप। स्कूल के प्रधानाध्यापक विरेंद्र राम ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि स्कूल सुबह नौ बजे अपने निर्धारित समय पर खुला। उसके बाद क्लास रूम की सफाई हुई। क्लास रूम की सफाई के बाद हर दिन की तरह प्रार्थना के लिए छात्र असेंबली में एकत्रित हुए। उसके बाद हेडमास्टर ने एसेंबली में बच्चों को हाथ जोड़कर प्रार्थना करने की जानकारी दी। बच्चों से कहा गया कि हर दिन हाथ जोड़कर ही प्रार्थना करें। उसके बाद सभी बच्चों ने बगैर किसी झिझक के हाथ जोड़कर प्रार्थना की। उसी दिन से उक्त स्कूल में हाथ जोड़कर प्रार्थना शुरू हो गया। इसी बीच रंका प्रखंड के मध्य विद्यालय खपरो में हाथ बांधकर प्रार्थना करने का मामला प्रकाश में आया।

क्या था मामला
हाथ बांध कर प्रार्थना करने का मामला सबसे पहले पिछले दिनों सदर प्रखंड के कोरवाडीह मध्य विद्यालय में आया था। मामला प्रकाश में आने के बाद डीसी रमेश घोलप के निर्देश पर प्रभारी डीएसई मयंक भूषण, बीडीओ कुमुद झा स्कूल पहुंचे। वहां उन्होंने स्कूल प्रबंधन समिति के सदस्यों के अलावा हेडमास्टर और शिक्षकों से पूछताछ की। उसके बाद उन्होंने अपनी उपस्थिति में ही बच्चों के साथ हाथ जोड़कर प्रार्थना की।