महाराष्ट्र
महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में एक नक्सली ने मंगलवार को पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया जिसपर छह लाख रुपये का इनाम घोषित था। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। पुलिस के एक बयान के अनुसार पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के निवासी गणेश गट्टा पुनेम ने पुलिस उपमहानिरीक्षक (अभियान) जगदीश मीणा के सामने आत्मसपर्मण कर दिया। पुनेम को 2017 में भमरामगढ़ एलओएस से संबद्ध आपूर्ति दल का सदस्य नियुक्त किया गया था। अगले साल उसे इस दल का उपकमांडर बना दिया गया।
 
चिकित्सा सुविधाओं के अभाव की वजह से किया आत्मसमर्पण
बयान के अनुसार वह 2017 एवं 2022 में बीजापुर में क्रमश: मिर्तूर और टिम्मेनार मुठभेड़ों में शामिल रहा था। पुलिस के मुताबिक पुनेम ने कहा कि उसने चिकित्सा सुविधाओं के अभाव, विकास कार्यों के लिए तय रकम में वरिष्ठों द्वारा हेराफेरी एवं अन्य वजहों से आत्मसमर्पण किया है। पुलिस ने कहा कि आत्मसमर्पण करने वाले इस नक्सली को राज्य एवं केंद्र की पुनर्वास नीति के अनुसार पांच लाख रुपये मिलेंगे। बयान में कहा गया है कि पिछले दो सालों मे 14 दुर्दांत माओवादियों ने गढ़चिरौली पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया है। गढ़चिरौली के पुलिस अधीक्षक नीलोत्पल ने आश्वासन दिया है कि आत्मसमर्पण करने और समाज की मुख्य धारा से जुड़ने को इच्छुक नक्सलियों को सभी जरूरी सहायता उपलब्ध करायी जाएगी।