मुंबई।
 
महराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच न्यूज एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो ट्वीट किया है। यह वीडियो सूरत के होटल का बताया जा रहा है, जिसमें एकनाथ शिंदे बड़ी संख्या में विधायकों के साथ दिख रहे हैं। इसमें करीब 35-36 व्यक्ति पोज देते हुए दिखाई दे रहे हैं। वहीं, शिवसेना के बागी विधायकों के संग सूरत से गुवाहाटी पहुंचे शिंदे ने 40 विधायकों के समर्थन का दावा किया है। वहीं, सूत्रों ने यह भी बताया है कि कल जब उद्धव ठाकरे ने शिवसेना विधायकों को अपने घर पर बुलाया तो सिर्फ 17-18 की संख्या में ही एमएलए वहां पहुंचे। आपको बता दें कि शिवसेना के पास विधानसभा में 55 विधायक हैं। हाल ही में संपन्न हुए विधान परिषद चुनाव में जमकर क्रॉस वोटिंग हुई, जिसके सहारे बीजेपी 5 सीट जीतने में सफल रही।
 
शिवसेना के बागी नेता और महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के 33 और 7 निर्दलीय विधायक बुधवार को भाजपा शासित असम के गुवाहाटी के एक लक्जरी होटल में पहुंचे। शिवसेना में विद्रोह ने अटकलों को जन्म दिया है कि शिंदे अन्य विधायकों के साथ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार को गिराने के लिए भाजपा में शामिल हो सकते हैं। शिवसेना विधायक अब गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल में ठहरे हुए हैं। शिंदे ने गुवाहाटी पहुंचने के बाद कहा, "यहां कुल 40 विधायक मौजूद हैं। हम बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व को आगे बढ़ाएंगे।"

गुवाहाटी हवाई अड्डे पर भाजपा विधायक सुशांत बोरगोहेन और भाजपा सांसद पल्लब लोचन दास ने शिवसेना विधायकों का स्वागत किया। बोर्गोहेन ने कहा, "मैं विधायकों लेने आया था। मैंने यह नहीं गिना कि कितने विधायक आए हैं। मैं यहां निजी संबंधों के लिए आया हूं। उन्होंने किसी कार्यक्रम का खुलासा नहीं किया है।" जब राष्ट्रवादी कांग्रेस के प्रमुख शरद पवार से एमवीए में संकट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने उथल-पुथल को "शिवसेना का आंतरिक मामला" करार दिया। पवार ने यह भी कहा कि वह तीन दलीय सरकार के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने विपक्षी भाजपा के साथ किसी भी तरह के गठजोड़ से भी इनकार किया। यहां तक ​​​​कि कांग्रेस ने भी संकट को समाप्त करने के लिए अपने वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को मंगलवार को राज्य में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया।

शिंदे अन्य शिवसेना विधायकों के साथ महाराष्ट्र विधान परिषद (एमएलसी) चुनावों में क्रॉस वोटिंग के बाद गुजरात के सूरत में एक होटल में ठहरे थे और गुवाहाटी पहुंचने के लिए उन्होंने आज उड़ान भरी। गुवाहाटी के लिए रवाना होने से पहले यहां सूरत हवाईअड्डे पर मीडियाकर्मियों से बात करते हुए शिंदे ने कहा कि उन्होंने बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना को नहीं छोड़ा है। उन्होंने कहा, "हमने बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना को नहीं छोड़ा है और नहीं छोड़ेंगे। हम बालासाहेब के हिंदुत्व का पालन करते रहे हैं और इसे आगे भी करेंगे।"