मुंबई
महाराष्ट्र में शिवसेना के अंदरखाने चल रही उठापटक के बीच 12 बागी सांसदों को वाई कैटेगरी की सुरक्षा दी गई है। ये वही बागी सांसद हैं जिन्होंने लोकसभा अध्यक्ष को चिट्ठी लिखी थी। जानकारी के मुताबिक यह सुरक्षा सोमवार रात से ही दी गई है। इन 12 सांसदों ने लोक सभा स्पीकर ओम बिड़ला को पत्र लिख कर राहुल शेवाले को नेता के तौर पर मान्यता देने का आग्रह किया था। दरअसल, ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि शिवसेना के 18 में से 12 सांसद शिंदे गुट के संपर्क में हैं। यह सभी सांसद उद्धव ठाकरे से अलग होकर अपना गुट बना सकते हैं। ऐसे भी कयास लगाए जा रहे थे कि यह सभी सांसद एकनाथ शिंदे को अपना समर्थन देने का ऐलान कर सकते हैं। यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि सोमवार को शिवसेना शिंदे गुट की ओर से बुलाई गई बैठक में शिवसेना के 19 में से 12 सांसद वर्चुअली शामिल हुए थे।

वहीं इससे उलट उद्धव ठाकरे गुट ने सोमवार शाम को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को अर्जी देकर कहा कि विनायक राउत को विधिवत तरीके से संसदीय दल का नेता नियुक्त किया गया है। पार्टी ने उनसे पार्टी से अलग हुए गुट के किसी भी अभिवेदन पर विचार नहीं करने का आग्रह किया है। शिवसेना संसदीय दल के नेता राउत ने लोकसभा अध्यक्ष को पत्र सौंपा है जिसमें यह भी स्पष्ट किया गया कि राजन विचारे को मुख्य सचेतक बनाया गया है।  बताया जा रहा है कि शिवसेना के इन्हीं 12 बागी विधायकों को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने Y श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। यह सुरक्षा दिल्ली के साथ मुंबई में भी प्रदान की जाएगी। फिलहाल अब सभी की नजर मंगलवार को होने वाली लोकसभा की कार्रवाई पर है। क्या लोकसभा स्पीकर इस मामले में कोई बड़ा फैसला लेंगे, यह समय बताएगा। इसी बीच कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से एक और खबर सामने आई है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे सोमवार की देर रात नई दिल्ली पहुंच गए हैं। और दावा किया है कि 12 नहीं बल्कि 18 सांसद उनके साथ हैं। फिलहाल अभी तक मुख्यमंत्री कार्यालय ने उनके एक दिवसीय दौरे का कोई कारण नहीं बताया है, ना ही इसकी पुष्टि हो पाई है।