उदयपुर

आतंकी संगठनों से जुड़े कट्टरपंथियों के हाथों उदयपुर में कत्ल किए गए कन्हैया के परिवार के साथ राजस्थान ही नहीं देशभर के लोगों की सहानुभूति है। टेलर की दुकान चलाने वाले कन्हैया ही परिवार की आमदनी का एकमात्र जरिया था। अब उनकी मौत से परिवार के सामने खड़ी हुई चुनौती को कम करने के लिए लोगों ने दिल खोलकर दान दिया है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता कपिल मिश्रा ने क्राउड फंडिंग के जरिए कन्हैया के परिवार के लिए 1.37 करोड़ रुपए जुटाए हैं। महज 24 घंटे के भीतर लोगों ने एक करोड़ रुपए से अधिक की राशि कन्हैया के परिवार को दी है।

30 दिन में 1 करोड़ जुटाने का था टारगेट
कपिल मिश्रा की ओर से शुरू किए गए कैंपेन में 12 हजार से अधिक लोगों ने अपनी क्षमता के मुताबिक सहायता की। कन्हैया के परिवार के लिए 30 दिन में एक करोड़ एकत्रित करने का टारगेट रखा गया था। 25 लाख रुपए कन्हैया को बचाने की कोशिश में घायल हुए ईश्वर सिंह को देने का फैसला लिया गया था। लेकिन महज 24 घंटे में 1.37 करोड़ रुपए आ चुके हैं। अकेले फिल्म मेकर मनीष मुंद्रा ने किया 11 लाख रुपए दिए हैं। कपिल मिश्रा के मुताबिक, देश और दुनिया के अलग-अलग कोनों से लोगों ने मदद भेजी है।

कन्हैया के परिवार को चेक देंगे कपिल
कपिल मिश्रा ने कैंपेन की शुरुआत करते हुए ट्विटर पर लिखा, ''उदयपुर में कन्हैया लाल जी की हत्या। एक गरीब हिन्दू को आतंकियों ने मार दिया। कन्हैया लाल जी के परिवार की जिम्मेदारी अब हमारी हैं। उनके पत्नी, बच्चों को ना अकेला पड़ने देंगे ना कमजोर।'' मिश्रा ने कहा कि वह इस कैंपेन के जरिए एकत्रित राशि को खुद कन्हैया के घर जाकर परिवार को सौंपेंगे।

राजस्थान सरकार ने दिए 51 लाख रुपए
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुरुवार को कन्हैयालाल के घर पहुंचे और परिवार को 51 लाख रुपये का चेक सौंपा। उन्होंने कन्हैया के दोनों बेटों को सरकारी नौकरी देने का भी वादा किया है। गौरतलब है कि 28 जून को मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद नाम के दो आरोपियों ने दुकान में घुसकर धारदार हथियार से कन्हैयालाल की हत्या कर दी। नूपुर शर्मा के समर्थन में किए गए एक पोस्ट की वजह से उनकी हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि यह पोस्ट कन्हैया के बेटे से गेम खेलते वक्त गलती से फेसबुक पर अपलोड हो गया था।