रायपुर, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल पर रामवनगमन पथ से जुड़े महत्वपूर्ण स्थलों को  पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। भगवान राम जिन जगहांे से गुजरे थे उनमें से एक महासमुंद जिले के विकासखंड के ग्राम पीढ़ी में 08 लाख 62 हजार रूपए की लागत से उपवन निर्माण किया गया जिसका लोकार्पण महात्मा गांधी के जंयती के अवसर पर 02 अक्टूबर को किया गया।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में संसदीय सचिव एवं महासमुंद के विधायक श्री विनोद चंद्राकर वर्चुअल माध्यम से जुड़े थे।

इस दौरान अतिथियों ने अपने उद्बोधन में कहा कि भगवान राम युगों-युगों से हमारे देश ही नहीं बल्कि दुनिया के अनेक देशों में जन आस्था के केन्द्र में रहें हैं। उन्हें भगवान के अवतार, धरती पर जन्मे मर्यादा पुरुषोत्तम, एक आदर्श राजा के रूप मंे जाना जाता है। भगवान राम की महिमा सर्व लोकव्यापी और समस्त सीमाओं के ऊपर है। भगवान राम का 14 वर्ष के वनवास काल में अधिकांश समय छत्तीसगढ़ मंे ही व्यतीत हुआ है। इसे ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने जिन क्षेत्रों से भगवान राम गुजरे थे। ऐसे क्षेत्रों को राम वन गमन परिपथ के रूप में विकसित करने का कार्य किया जा रहा है।

इसे ध्यान में रखकर राम वन गमन पथ के ग्राम पीढ़ी में 08 लाख 62 हजार की लागत से उपवन का निर्माण किया गया है। इस दौरान स्कूली बच्चों को निबंध, रंगोली, वाद-विवाद, भाषण, चित्रकला आदि में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया तथा मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के तहत् एनीमिक बालिकाओं, गर्भवती महिलाओं एवं शिशुवती माताओं तथा कुपोषित बच्चों को गरम भोजन अतिथियों द्वारा परोसा गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता जनपद पंचायत महासमुंद के अध्यक्ष श्री यतेन्द्र साहू ने की। जिला पंचायत सदस्य श्री अरूण चंद्राकर, जनपद सदस्य श्री राजेश साहू, स्काऊट गाईड के अध्यक्ष श्री दाऊलाल चंद्राकर, पूर्व जनपद उपाध्यक्ष श्री सेवन लाल चंद्राकर, कलेक्टर श्री डोमन सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री आकाश छिकारा, सरपंच ग्राम पंचायत श्रीमती दुलारी चंद्राकर, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक, अधिकारी-कर्मचारी सहित ग्रामीणजन इस अवसर पर मौजूद थे।